नवम्बर 13, 2017

टाटा केमिकल्स के वित्तीय वर्ष 2017-18 की दूसरी तिमाही की समेकित आय रु.3,462 करोड़ रही

टाटा केमिकल्स (कंपनी) ने आज 30 सितम्बर 2017 को समाप्त हुई दूसरी तिमाही के लिए अपने समेकित वित्तीय परिणामों की घोषणा की। कंपनी ने आज 30 सितम्बर 2017 को समाप्त हुई तिमाही के लिए 0.7 प्रतिशत की कमी के साथ परिचालन से हुई रु.3,462 करोड़ की समेकित आधार पर आय तथा 1.0 प्रतिशत की कमी के साथ रु.1,598 करोड़ की स्टैन्डअलोन आधार पर आय की घोषणा की। पीएटी, समेकित आधार पर 52 प्रतिशत बढ़ कर रु.273 करोड़ तथा स्टैन्डअलोन आधार पर 81 प्रतिशत बढ़ कर रु.156 करोड़ दर्ज हुआ।

01 जुलाई 2017 से वस्तु तथा सेवा कर (जीएसटी) के कार्यान्वयन के परिणामस्वरूप, परिचालनों से शुद्ध आय, जीएसटी हटा कर है। समान आधार पर, परिचालनों से राजस्व की प्राप्ति, वित्तीय वर्ष 2017 की दूसरी तिमाही में रु.1,557 करोड़ की तुलना में वित्तीय वर्ष 2018 की दूसरी तिमाही में 2.6 प्रतिशत बढ़ कर रु.1,598 करोड़ हो गयी।

वित्तीय वर्ष 2017-18 की दूसरी तिमाही में स्टैंडअलोन

  • भारतीय रसायन उद्योग ने कठोर लागत नियंत्रण तथा परिचालन कार्यकुशलता के साथ स्वस्थ प्रदर्शन जारी रखा
  • मसालों व दालों में कठोर मार्केटिंग व्यय ने निम्न बिक्री मात्राओं के असर को कम किया
  • फास्फेटिंक खाद व्यवसाय ने परिचालन कार्यकुशलता में सुधार दर्ज किया, लेकिन कम मात्राओं के कारण हल्दिया में अस्थायी बंदी रही  पहली तिमाही में परिचालन
  • फास्फेटिक खाद व्यवसाय के स्थानांतरण के लिए आईआरसी एग्रोकेमिकल्स के साथ बीटीए पर हस्ताक्षर हुआ
  • तिमाही के परिणाम में रु53 करोड़ के अपवाद चार्ज शामिल है जो रिकवर करने योग्य राशि के ऊपर कैरीईंग मूल्य के बीच की कमी का प्रतिनिधित्व करता है
  • 30 सितम्बर 2017 को शेष प्राप्य सब्सिडी रु.1,228 करोड़ थी (30 जून 2017 को रु.1,105 करोड़)

वित्तयी वर्ष 2017-18 की समेकित दूसरी तिमाही FY17-18

  • उच्च उत्पादन व बिक्री के साथ, उत्तरी अमरीका परिचालन में स्थिर प्रदर्शन जारी रहा
  • बेहतर कार्यकुशलता के साथ यूरोपीय परिचालनों ने बेहतर प्रदर्शन दर्शाया
  • बेहतर बिक्री मात्रा व लाभप्रदता के साथ मगाड़ी ने परिचालन प्रदर्शन में और सुधार पेश किया
  • रैलीस इंडिया ने मेटाहेलिक्स से बेहतर प्रदर्शन के साथ स्थिर प्रदर्शन बनाए रखा
  • 31 मार्च 2017 को रु.5,573 करोड़ के समेकित शुद्ध ऋण की तुलना में 30 सितंबर को यह राशि रु.4,459 करोड़ था

व्यवसाय-वार प्रदर्शन

लिविंग एसेंशियल्स                                                                       

  • टाटा नमक अभियान – सेहत की चुस्की – ने एक और पुरस्कार जीता,  पीएमएए द्वारा एशिया पैसेफिक अवार्ड ड्रैगन्स में बेहतरीन अभिनव आइडिया के लिए ‘गोल्ड ड्रैगन’
  • टाटा नमक राष्ट्रीय ब्रांडेड खंड में बाजार का लीडर बना रहा
  • इस व्यवसाय ने सभी श्रेणियों में मात्रात्मक वृद्धि पर फोकस जारी रखा

इंडस्ट्री एसेंशियल्स

  • लॉकस्टॉक फेसिलिटी में आग के बाद यूरोपीय परिचालनों में सैंड प्रदर्शन में मात्रात्मक सुधार दर्ज हुआ
  • डिटर्जेंट स्पक्ल्स –डेटमेट और फार्मा ग्रेड बाईकार्ब-मेडिकार्ब भारत में  जारी किया गया

फार्म एसेन्शिल्स

  • नियोजित ऊर्जा स्तरों पर बबराला में स्थिर उत्पादन
  • पूरे भारत में डिजिटल प्लेटफार्म दृष्टि जारी किया गया। शुरुआत की योजना रबी मौसम में तीन फसलों – कपास, धान व टमाटर के लिए बनाई गयी

आर मुकुंदन, प्रबंध निदेशक, टाटा केमिकल्स ने कहा, “समीक्षित तिमाही में भारतीय और वैश्विक रसायन व्यवसाय में स्थिर प्रदर्शन वाला रहा, जिसमें लागत तथा परिचालन कार्यकुशलता के कारण बेहतर लाभप्रदता दर्ज हुई। उपभोक्ता व्यवसाय में, टाटा नमक बाज़ार का लीडर बना रहा। हमने सभी उत्पाद श्रेणियों में बढ़ती बाज़ार हिस्सेदारी तथा ग्राहक उत्कृष्टता बेहतर करने पर अपने प्रयासों को निर्देशित करना जारी रखा।”

“खेती के व्यवसाय में रैलीस इंडिया तथा मेटाहेलिक्स ने फसल सुरक्षा व्यवसाय में मजबूत प्रदर्शन करना जारी रखा। कंपनी को खुशी है कि फास्फेटिक खाद व्यवसाय के लिए इसे उपयुक्त साझीदार मिल गया है, यह खाद व्यवसाय से निकलने के लिए यूरिया व्यवसाय की बिक्री पर हमारी पहले की घोषणा के अनुरूप है। अकार्बनिक रसायन व्यवसायम में लीडरशिप बनाए रखते हुए, रसायनों और उपभोक्ता खाद्य व्यवसाय पर हमारे वृद्धि के प्रमुख क्षेत्रों के रूप में ध्यान केन्द्रित करना हमारी रणनीति बनी हुई है,” श्री मुकुंदन ने आगे बताया।