अगस्त 29, 2017

सोलर्ट डेवऑप्स ने पहला टाटा सोशल इंटरप्राइस चैलेंज हैकाथन जीता

पहले टाटा सोशल इंटरप्राइस चैलेंज हैकाथन में सोलर्ट डेवऑप्स का चमकदार प्रदर्शन

मुंबई: प्रौद्योगिकी के माध्यम से जीवनशैली रोगों से लड़ने के उद्देश्य से टाटा समूह ने हाल ही में हेल्थ पर पहले टाटा सोशल इंटरप्राइस चैलेंज हैकाथन को बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, बेंगालुरू में इसी माह आयोजित किया। यह दो दिवसीय हैकाथन टाटा सोशल इंटरप्राइस चैलेंज 2017-18 का एक हिस्सा था जो कि टाटा समूह का भारतीय प्रबंधन संस्थान कलकत्ता के साथ संयुक्त पहल है।

सोलर्ट डेवऑप्स को इस हैकाथन चुनौती का विजेता घोषित किया गया और इसने रु.10,000 के नगद पुरस्कार को जीता। इन्होने पेशन निगरानी के साथ एक स्मार्ट पॉस्चर असेसमेंट डिवाइस का विकास किया है जिसे विशेष रूप से बेड सोर वाले रोगियों के लिए डिजाइन किया गया है। इस विजेता टीम में अंकित अवाल, शगुन तूली, जुनैद लियाकत मेनन और हर्षल खांदेकर शामिल थे।

गार्जियन्स फॉर हेल्थ एंड वायु की ओर से कुछ होनहार विचार आए, जुन्होने एक ऐसी डिवाइस विकसित की है जो दिल के दौरे को काफी पहले पहचान लेती है तथा डायबिटिक केटोएसिडोसिस की चेतावनी के लिए पहनी जाने वाली एक डिवाइस भी विकसित की है। इस आयोजन में काफी व्यापक भागीदारी रही जिसमें विद्यार्थी, डेवलपर, डिजाइनर्स तथा इन्नोवेटर्स शामिल थे।

इस हैकाथन में 100 से अधिक प्रविष्टियां प्राप्त हुई जिसमें से 35 ने हैकाथन के लिए क्वालीफाई किया था। पार्टिसिपेंट को आठा टीमों में बांटा गया था। पहले दिन, आठ टीमों ने इम्पैक्ट फंड, अकादमिया, कारपोरेट तथा सामाजिक इंटरप्राइसेस के मेटरों से मार्गदर्शन व सलाह हासिल की। इन टीमों ने दूसरे दिन अपने विचार तथा प्रोटोटाइप को ज्यूरी सदस्यों के पैनल के सामने पेश किए।

इस ज्यूरी में अरुणवा मुखोपाध्याय, उपाध्यक्ष, आईटी तथा हेडज सीएसआर, टाटा एलेक्सी; डॉ रवि रामास्वामी, वरिष्ठ निदेशक व हेड हेल्त सिस्टम्स, फिलिप्स इन्नोवेशंस कैंपस; डॉ एचएन सूमा, प्रोफेसर, मेडिकल इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग, बीएमएस कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग, बेंगालुरू;  डॉ निरोद कुमार सिंह, एसोसिएट निदेशक, हेल्थकेयर & साइफ साइंसेस प्रैक्टिस, फ्रॉस्ट & सुलिवान; गौरव कपूर, हेड, इन्वेंट, आईआईएम कलकत्ता इन्नोंवेशन पार्क तथा विक्रमन वेनु, सीईओ, आईकेपी, ईडेन जैसे प्रख्यात लोग शामिल थे।

श्री कपूर, हेड, इन्वेंट, आईआईएम कलकत्ता इन्नोंवेशन पार्क ने कहा, “यह छात्रों, डॉक्टरों, डिजाइनरों और कोडरों का मिश्रण था जिसने विविध परिप्रेक्ष्य तथा अपनी सिनेर्जी को साथ लाने में सहायता की तथा लाइफस्टाइल से जुड़े कुछ रोगों के लिए आश्चर्यजनक समाधान पेश किए।

अतुल अग्रवाल, वरिष्ठ उपाध्यक्ष, कारपोरेट मामले, टाटा सर्विसेस ने कहा, “इस साल इस हैकाथन को जोड़ने के साथ टाटा सोशल इंटरप्राइस चैलेंज में एक नया आयाम जुड़ गया है। प्रतिक्रियाओं से हम प्रसन्न हैं और सभी ज्यूरा सदस्यों, आईआईएम कलकत्ता इन्नोवेशन पार्क तथा आईबीहब्स को उनके प्रयासों के लिए धन्यवाद देते हैं और अभिनव समाधानों को हासिल करना जारी रखने के लिए प्रतिभागियों को शुभकामनाएं देते हैं।

इस हैकाथन को भारतीय सामाजिक उद्यमिता इको-सिस्टम क्षेत्र में उनके विचारों और समाधानों के लिए विभिन्न विषयों पर युवाओं को चुनने के लिए चुनिंदा शहरों में आयोजित किया जा रहा है। इस आयोजन को आईआईएम कलकत्ता इन्नोवेशन पार्क द्वारा टाटा समूह तथा आईबीहब्स के सहयोग से आयोजित किया गया था।